एक तरफ़ पांच सितारा अस्पताल, दूसरी ओर दर दर ठोकर खाते ग़रीब मरीज़

5 मई 2019 को दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में “जन स्वास्थ्य चेतना:जरूरत और रास्ते” विषय पर PMF द्वारा एक परिचर्चा का सफल आयोजन किया गया।

परिचर्चा का संचालन करते हुए डॉ अजित ने PMF के गठन के इतिहास और उसके उद्देश्य पर चर्चा  करते हुए।

उन्होंंने कहा कि PMF अपने गठन काल से ही लगातार हर आपदा और मानवीय त्रासदियों में अपनी क्षमता भर ऊर्जा के साथ तथा अन्य बिरादराना संगठनों के समन्वय से स्वास्थ्य शिविर लगाते रहे हैं।

चाहे वो बिहार की कोसी नदी बाढ़ हो या उत्तराखंड आपदा हो या मुज़्ज़फरनगर दंगा हो या कश्मीर बाढ़ हो या नेपाल भूकंप हो तथा केरल बाढ़ जैसी त्रासदी हो।

ये भी पढे़ं :-नेस्ले इंडिया के मजदूरों ने वेतन कटौती के विरोध में किया लंच बहिष्कार

फोटो साभार फेसबुक
दिल्ली के गांधी पीस फाउंडेशन में सेमिनार।
GDP का कितना प्रतिशत स्वास्थ्य मदद में लगाया गया

कार्यक्रम की शुरुआत गीत “रियाया पर जुल्म सितम बढ़ गया है” से हुआ।

डॉ. रामप्रकाश अनंत ने तुलनात्मक ब्यौरा देते हुए कहा कि कौन-कौन से देश अपने GDP का कितना प्रतिशत स्वास्थ्य मदद में कर रही है।

भारत मे इसको और बढ़ाये जाने पर ज़ोर दिया जाना चाहिए जबकि सरकार ठीक इसके विपरीत कर रही है।

ये भी पढे़ं :-आईसिन मज़दूर यूनियन के संघर्ष के दो साल

चिकित्सा शिक्षा को भी बेचने की तैयारी

डॉ. आनंद ने बताया की कैसे चिकित्सा लगातार आम जन से दूर होती जा रही है। एक ओर तो पांच सितारा होटलनुमा अस्पताल बन रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर गरीब मरीजों के लिए प्राथमिक स्तर पर मूलभूत जरूरत की दवाईयों से लेकर अन्य सुविधाओं तक का अभाव है।

साथ ही साथ NMC बिल द्वारा चिकित्सा शिक्षा को भी पूर्णतयः बेचने की तैयारी है।

ये भी पढे़ं :-एक दोस्त की नज़र में मज़दूरों के महान नेता कार्ल मार्क्स

इसके साथ ही युवा संवाद पत्रिका से डॉ. ए.के अरूण, ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद से डॉ. बी.डी अग्रवाल, प्रगतिशील महिला एकता केन्द्र से हेमलता और इंक़लाबी मज़दूर केंद्र से रोहित आदि ने अपनी बात रखी।

प्रोग्रेसिव मेडिकोज फोरम ने जनस्वास्थ्य पर केंद्रित एक वेबसाइट शुरू करने की घोषणा की व यूट्यूब चैनल जनस्वास्थ्य का पहला वीडियो पंकज बिष्ट जी ने पब्लिक किया।

ये भी पढे़ं :- माइक्रोमैक्स के 300 से अधिक श्रमिकों की गैरकानूनी छँटनी पर अदालत ने लगाई रोक

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *