ठेकेदार के कर्मचारी नियमित कर्मचारी नहीं हो सकते :सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में व्यवस्था दी है कि ठेकेदार के साथ हुए अनुबंध पर काम कर रहे श्रमिकों को संस्थान का नियमित कर्मचारी नहीं कहा जा सकता। चाहे ये कर्मचारी नियमित कर्मचारियों की तरह से काम कर रहे हों और उनके काम पर कंपनी का पूर्ण नियंत्रण हो।

यह व्यवस्था देकर जस्टिस आरएफ नारीमन और विनीत शरण की पीठ ने उत्तराखंड हाईकोर्ट के आदेश को निरस्त कर दिया और भारत हैवी इलेक्ट्रीकल्स लिमिटेड (भेल), हरिद्वार में 64 अनुबंध कर्मचारियों को बहाल करने के फैसले को गैर न्यायोचित ठहराया।

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने 24 अप्रैल 2014 को  दिए फैसले में कहा था कि ये मज़दूर कर्मचारी की विस्तारित परिभाषा में आएंगे और इन कर्मचरियों को सेवा में बहाल किया जाए।

जस्टिस नारीमन की पीठ ने यह फैसला भेल की  विशेष याचिका पर दिया।

भेल  का कहना था कि कर्मचारी उसके नियमित कर्मचारी नहीं हैं।

बल्कि अनुबंध पर लाए गए कर्मचारी हैं जो यूपी इंडस्ट्रीयल डिस्प्यूट एक्ट, 1947 की धारा 2 के तहत कर्मचारी की परिभाषा के दायरे में नहीं आते।

पीठ ने यह तर्क स्वीकार कर लिया और कहा कि अनुबंध पर काम कर रहे कर्मचारियों पर चाहे भले ही कंपनी के नियंत्रण हो और उन्हें काम के लिए अंदर आने के वास्ते गेट पास जारी किए गए हों।

लकिन वे भेल के कर्मचारी नहीं है  ।

ये भी पढ़ें :-2018 ने जाते जाते देश और दुनिया के मज़दूर वर्ग को अचूक मंत्र दे दिया

 गेटपास होने  से कोई कंपनी का कर्मचारी  नहीं हो जाता

पीठ ने कहा कि गेटपास होने से कोई भी कंपनी के कर्मचारी नहीं हो जाता।

यह गेट पास सुरक्षा और प्रशासनिक दृष्टिकोण से दिए जाते थे और यह भी ठेकेदार के आग्रह पर जारी किए थे।

अन्यथा कोई भी कर्मचारी कंपनी में घुस जाएगा। गेट पास से कर्मचारियों का नियोक्ता के साथ कर्मचारी का रिश्ता नहीं बनता।

कंपनी  नहीं देती सीधे वेतन

पीठ ने कहा कि उनका वेतन भी भेल सीधे उन्हें नहीं देती बल्कि ठेकेदार को देती है जो 10 फीसदी कमीशन काटकर बाद में उन्हें वेतन वितरित करता है।

उन्हें भेल की ओर से कोई नियुक्ति पत्र नहीं दिया गया और ना ही उनके पास कोई पीएफ नंबर है। उनके पास कोई वेतन स्लिप भी नहीं है।

ये भी ज़रूर पढ़ेंः संसद के पहले सत्र में ही श्रम कानूनों पर चलेगा हथौड़ा

उत्तराखंड हाईकोर्ट का फैसला रद्द

भेल ने इन अनुबंधित कर्मचारियों को2004 में हटा दिया था।

लेकिन लेबर कोर्ट ने 2009 में अवार्ड दिया और कहा कि इन कर्मचारियों को पिछला वेतन दिए बिना बहाल किया जाए।

भेल इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट गई, लेकिन हाईकोर्ट ने भी लेबर कोर्ट के फैसले को सही माना और कर्मचारियों को बहाल करने का आदेश दिया।

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को गैर न्यायोचित ठहराकर रद्द कर दिया।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *