रेलवे का निजीकरणः क्या रेलवे की यूनियनें तैयार हैं?

रेलवे के सात कारखानों को निगम बना कर उसे भारतीय रेलवे से अलग करने का फैसला ले लिया गया है।

प्लेटफ़ार्मों को निजी कंपनियों के हाथों धड़ल्ले से दिया जा रहा है।

अब तो पहली निजी ट्रेन भी लखनऊ से दिल्ली के लिए चलनी शुरु हो गई है। ऐसे में क्या ट्रेड यूनियनें तैयार हैं?

इसी मुद्दे पर देखें ख़ास कार्यक्रम ‘वर्कर्स वॉइस’ प्रियंका के साथ।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

2 thoughts on “रेलवे का निजीकरणः क्या रेलवे की यूनियनें तैयार हैं?

  • July 21, 2019 at 10:23 am
    Permalink

    On 29.07.2019 All India SC ST RE Association conducted demonstration against privatization and corporisation over Indian railways at GMs,CWM,and DRM,s office. Modi government has already sold railway activities,property and land uoto 80% to the corporation.

    Reply
  • July 21, 2019 at 10:24 am
    Permalink

    On 19.07.2019 All India SC ST RE Association conducted demonstration against privatization and corporisation over Indian railways at GMs,CWM,and DRM,s office. Modi government has already sold railway activities,property and land uoto 80% to the corporation.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *