मज़दूर वर्ग क्यों नहीं बन पाता इस देश का प्रमुख मुद्दा?

आज के दौर में मजदूर वर्ग की पहचान खतरे में है, मजदूरों की इसी बदतर स्थिति के बारे में प्रो. सरोज गिरी बताते है कि….

एक समय था जब जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, महात्मा गांधी ट्रेड यूनियन की बैठकों में जाया करते थे।

एक दौर अब है कि मज़दूर होने को आपराधिक बना दिया गया है।

मज़दूर की मांगों को दलित होने, मुस्लिम होने, महिला होने, ट्रांसजेंडर होने की पहचान में बांट दिया गया है। यहां तक कि मज़दूर वर्ग को अपराधी घोषित किए जाने की भारी साजिश हो रही है।

ये भी पढ़ेंः सीवर सफ़ाई के लिए दिल्ली में कर्मचारियों को मिलीं 200 मशीनें

मज़दूर की दिक्कतें क्यों नहीं बन पा रहीं मुद्दा

पर मजदूर वर्ग हमसे अलग नहीं है और न ही ये कोई अलग मुद्दा है बल्कि मजदूरी वर्ग की समस्या भी हमारे समाज में उतनी जरूरी है जितने की बाकी मुद्दे जरूरी हैं।

लेकिन क्रेंद सरकार व राज्य सरकार किसी ने भी इन मुद्दों की ओर अपना ध्यान केंद्रित करने की जहमत उठाना भी जरूरी नहीं समझा और तो और समाज के लोगों के सामने भी इसे कभी भी एक आवश्यक मुद्दे की तरह भी पेश नहीं किया गया।

इसके बाद वो बताते है कि किस प्रकार से केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सफाई कर्मचारियों को नालों की सफाई के लिए 200 मशीनें मुहैया कराई ये मशीनें इस तरह डिज़ाइन की गई हैं कि वो संकरी गली या व्यस्ततम इलाके में जा सकें।

इसके बाद किसी भी मजदूर को नाले में उतर कर सफाई करने की जरूरत न पड़े इस को हटाने के लिए ये कदम उठाया गया।

ये भी पढ़ेंः सैलरी गैपः मज़दूर 1 हज़ार साल काम करे तो भी वो सीईओ की एक साल की कमाई की बराबरी नहीं कर सकता

पर क्या है इसकी सच्चाई

प्रो. गिरी बताते है कि एक प्रकार से मजदूरो को नाले में उतरने की समस्या का समाधान करना तो ठीक है लेकिन यहां पर सरकार ये बात भूल जाती है कि वे मजदूर भी है।

यहां मजदूरी की पहचान को भूल कर इन मजदूरों का सबंधं सालो-साल से चली आ रही जाति प्रथा से जोड़ दिया गया लेकिन जब भी मजदूरों के अस्तिव को लेकर सरकार की कोई चिंता या कर्तव्य नजर नहीं आता।

सरकार द्वारा मजदूर वर्ग को हाशिए पर रखा जाता है।

उनकी परेशानियों और मुद्दो को कोई मुद्दा ही नहीं समझा जाता जब भी उनके लिए कुछ करने की बारी आए तो प्रशासन को वे नजर ही नहीं आते।

maschin given to sanitaion workers in delhi @WorkersUnity

सफाई कर्मचारी अब बने सेनीएंटरप्रन्योर

वे बताते है की सरकार ने किस तरफ से मजदूर वर्ग की परिभाषा को ही बदल डाला, अब सरकार नें मजदूरों की परिभाषा को बदल कर आज के समय में मजदूर को व्यवसायी बना दिया है।

हमारी सरकार कहती है की मजदूरों को आगे बढ़ने देना चाहिए उन्हें किसी के सहारे की जरूरत नहीं है आज मजदूर की कोई पहचान नहीं है।

सरकार अपने अलग-अलग प्रकार के कॉन्सेपट ला कर मजदूर शब्द का नाम तक मिटा देना चाहती है।

jobs unemployment workers unity

सरकार द्वारा लाए कॉन्सेपट्स ने छिना मजदूरों का हक

उन्होंने लोगों को बताया कि किस तरह से सरकार के लाए इन नए कॉसेपट्स ने मजदूरों को उनकी पहचान भूलने पर मजबूर कर दिया है मजदूर को एक व्यवसायी के झोल में बांधकर उनका हक भी उनसे छिना जा रहा है।

प्रो. गिरी ने केजरीवाल सरकार के इस कदम पर कटाक्ष करते हुए बताया कि कैसे सरकार कुछ आधिकार दे कर मजदूरों को मजदूर वर्ग से ही हटा देती है जैसा की केजरीवाल सरकार के इस फैसले में देखने को मिलता है।

ये कॉन्सेपट मजदूर वर्ग की पहचान पर बड़ा हमला है।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली सरकार की न्यूनतम मज़दूरीः काम आज के, दाम बाप के ज़माने के

मजदूर वर्ग की मुक्ति में ही पूरे समाज की मुक्ति है

वे बताते है कि किस तरह हम समाज के अन्य कामो को मजदूर वर्ग से इतर कर देते है क्योंकि शिक्षा जैसे संस्थानों में अस्थाई शिक्षकों को भी उतना ही वेतन दिया जाता है जितना की स्थाई शिक्षकों को दिया जाता है।

लेकिन फैक्ट्रियों में अस्थाई कर्मचारियों को उतना वेतन नहीं दिया जाता जितना स्थाई कर्मचारियों को दिया जाता है हालांकि काम उतना ही लिया जाता है।

वे काल मार्क्स का हवाला देते हुए कहते हैं कि मजदूर वर्ग की मुक्ति में ही पूरे समाज की मुक्ति है यानि ये कोई अलग लड़ाई नहीं बल्कि पूरे समाज की लड़ाई है।

वीडियो देखेंः 3 मार्च को संसद घेरेंगे हज़ारों मज़दूर, रखी है 25 हज़ार न्यूनतम मज़दूरी की मांग

landless farmers @workersunity

मजदूरों पर हो रहे अन्याय की किसी को भी खबर नहीं

प्रो. बताते है की ये एक चिंता का विषय है कि कैसे एक मारुती गाड़ी जिसमें सब चढ़ते है लेकिन जब उसी मारूती कंपनी के मजदूरों पर अत्याचार होता है, अपने हक की लड़ाई के लिए उन्हें जेल में बंद कर दिया जाता है तो इस बात की खबर किसी को नहीं होती और न ही देश का मीडिया इसे लोगों तक पहुंचाने का विषय समझता है।

आज मजदूर की ये हालत सिर्फ इस कारण है की लोग अलग-अलग बंटे हुए हैं, जिस वजह से हम खुद के लिए एकजुट नहीं हो पाते इसी कारण आज मजदूर को आपराधियों की श्रेणी में रख दिया गया है।

ऐसा भी इसलिए है क्योंकि हमारे संघर्ष का दायरा भी संकुचित है हम मजदूर-मजदूर में भेद कर रहे हैं जबकि हमें एकजुट होकर बड़े स्तर पर सघंर्ष करने की जरूरत है।

मजदूर की आज एक मजदूर के रूप में कोई पहचान ही नहीं रह गई है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *