डेल्टा, स्मार्ट फैक्ट्री की 89 लाख रुपये की आरसी जारी

हल्द्वानी- डेल्टा, स्मार्ट फैक्ट्री हलदुआ रामनगर पर श्रमिकों का तीन माह का वेतन भुगतान न होने पर श्रम विभाग ने प्रबंधन के खिलाफ शुरू की कर्रवाई।

श्रमिकों अपनी तीन माह के वेतन की मांग को लेकर मंडल उपश्रमायुक्त से मिलने पहुंचे

कंपनी के साथ लंबे समय से जारी विवाद के कारण श्रमिकों को नहीं मिल रहा वेतन

दरअसल इस कंपनी के श्रमिकों को नवंबर, दिसंबर और जनवरी तीन माह तक का वेतन नहीं दिया गया है। आपको बता दें कि 343 श्रमिकों को डेल्टा से 71.95 लाख का नवंबर, दिसंबर, जनवरी का वेतन मिलना है वहीं डेल्टा से ही जुड़ी स्मार्ट फैक्ट्री को 83 श्रमिकों को 17.39 लाख रुपये का तीन माह का वेतन देना है।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली सरकार की न्यूनतम मज़दूरीः काम आज के, दाम बाप के ज़माने के

 

workers unity
workers unity

श्रमिकों को इतने समय से वेतन न दिए जाने की वजह से उपश्रमायुक्त ने कंपनी की आरसी जारी कर प्रशासन को भेजी।

इसके साथ ही डेल्टा और इससे जुड़ी दो और फैक्ट्रियों को भी बंद कराने का मामला पिछले काफी समय से चल रहा है लेकिन फैक्ट्रियों को बंद करने का प्रस्ताव शासन से खारिज किया जा चुका है।

लगातार ये विवाद चलने के कारण श्रमिकों को पिछले कई माह से वेतन नहीं मिल पा रहा है, जिसके बाद श्रमिकों की ओर से इस बात की शिकायत उपश्रमायुक्त से की गई थी। इस पर श्रम विभाग ने श्रमिकों के वेतन वसूली की कर्रवाई की है।

वीडियो देखेंः 3 मार्च को संसद घेरेंगे हज़ारों मज़दूर, रखी है 25 हज़ार न्यूनतम मज़दूरी की मांग

workers unity
workers unity

उपश्रमायुक्त विपिन कुमार ने बताया कि डेल्टा, स्मार्ट कारखाने के श्रमिकों को तीन माह से वेतन नही दिया जा रहा है। इस पर प्रबंधन के खिलाफ समय पर भुगतान अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई। इस प्रकिया के दौरान मौके देन के बावजूद प्रबंधन ने श्रमिकों का भुगतान नहीं किया।

उन्होंने ये भी बताया कि डेल्टा के 343 श्रमिकों को तीन माह के वेतन भुगतान के लिए हर माह के हिसाब से 71.95 लाख रुपये की आरसी जारी की गई है इसके साथ ही डेल्टा से ही जुड़ी स्मार्ट फैक्ट्री के 83 श्रमिकों को नंवबर, दिसंबर, जनवरी के वेतन के भुगतान के लिए हर महीने के हिसाब से 17.39 लाख रुपये की आरसी जारी की गई है। बीते मंगलवार के दिन भी अपनी वेतन की मांग को लेकर डेल्टा के श्रमिकों के प्रतिनिधि मंडल उपश्रमायुक्त से मिलने पहुंचे थे।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *