मोदी के आर्थिक सलाहकार ने कहा, ‘मंदी से मज़दूर सस्ते हो गए अब लगाओ पैसे’

मंदी से चारो तरफ़ त्राहि त्राहि मची है, मज़दूर, बचतकर्ता आम आदमी, कर्मचारी और देश का हर नागरिक परेशान है लेकिन मोदी के पूंजीपति वर्ग इसे सौभाग्य मान रहा है।

मोदी के प्रमुख आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमनियन ने बुधवार को कहा है कि मंदी में सस्ते मज़दूर मिलते हैं और इसीलिए पैसा लगाने का ये सही टाइम है।

बिज़नेस स्टैंडर्ड की ख़बर के अनुसार, बुधवार को सुब्रमनियन ने कहा कि ‘उद्योग जगत को बिज़नेस में पैसा लगाना शुरू कर देना चाहिए क्योंकि अर्थव्यवस्था की बुनियाद बहुत बहुत मज़बूत है।’

उद्योग संगठन फ़िक्की के एक आयोजन में उन्होंने ये बातें कहीं।

छोटी कंपनियों का 40,000 करोड़ रुपये से अधिक राशि बकाया है। उन्होंने बड़े बड़े कारपोरेट घरानों से कहा कि छोटे और लघु उद्योगों को ये भुगतान कर देना चाहिए क्योंकि नकदी पर उनका सारा व्यापार निर्भर है।

उन्होंने कहा कि छोटी कंपनियों का बकाया चुकता करने में बड़ी कंपनियों को अपनी अहम भूमिका निभानी होगी।

लघु उद्योगों का 40,000 करोड़ रुपये बकाया

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बीते सोमवार को कहा था कि मध्यम और लघु उद्योगों का 40,000 करोड़ रुपये बकाया है।

आर्थिक सलाहकार ने कहा कि अर्थव्यवस्था में निवेश नहीं हो रहा है इसलिए मंदी है।

उन्होंने कहा कि कारपोरेट को ये भी ध्यान रखना चाहिए कि मंदी के कारण मज़दूर सस्ते हो गए हैं इसलिए उन्हें पैसे लगाने शुरू कर देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की बुनियाद बहुत मज़बूत है और वो बदली नहीं है, हम फिर 7-8 प्रतिशत विकास दर की ओर लौटेंगे।

इस महीने की शुरुआत में रिज़र्व बैंक ने आर्थिक विकास दर का अनुमान 6.9 प्रतिशत से घटाकर 6.1 प्रतिशत कर दिया था।

रिज़र्व बैंक का ये सुधार ऐसे समय आया है जब जीडीपी विकास दर पांच साल के सबसे निचले स्तर 5 प्रतिशत पर पहुंच गई है।

उपङोक्ता और निजी क्षेत्र में निवेश में भारी गिरावट के चलते लाखों नौकरियां जा चुकी हैं।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

One thought on “मोदी के आर्थिक सलाहकार ने कहा, ‘मंदी से मज़दूर सस्ते हो गए अब लगाओ पैसे’

  • October 18, 2019 at 10:39 am
    Permalink

    यह साला बिका हुआ भांड है ऐसे सलाहकार देश के नाम पर कलंक है इनका नाश हो

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *