रेलवे की यूनियन आईआरईएफ़ ने टीयूसीसी से नाता तोड़, एक्टू का हाथ थामा

By आशीष सक्सेना

इंडियन रेलवे इंप्लाइज फेडरेशन (आईआरईएफ) ट्रेड यूनियन कोऑर्डिनेशन सेंटर (टीयूसीसी) से अलग होकर भाकपा माले (लिबरेशन) के श्रमिक महासंघ आल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियन्स (ऐक्टू ) का हिस्सा बन गया।

आईआरईएफ का रूप तो बदल गया, लेकिन रेल की राजनीति में उसके तेवर कैसे होंगे और चुनौतियां क्या होंगी, इसको लेकर तरह तरह की अटकलें जारी हैं।

आईआरईएफ़ के नेता सर्वजीत सिंह की अगुवाई में मुख्य काम रेल कोच फैक्ट्रियों (आरसीएफ़) में रहा है, जहां रेल यूनियनों के चुनाव की व्यवस्था फिलहाल तक नहीं है।

यहां एक परिषद बनाई जाती है, जिसमें सभी प्रमुख यूनियनों के प्रतिनिधि मौजूद रहते हैं।

यह अलग बात है कि आरसीएफ़ में आईआरईएफ़ मजबूत रही है। वहीं इस फ़ेडरेशन के साथ कई अन्य ज़ोन की यूनियनें भी जुड़ी रही हैं, जिनमें से कुछ ने अब किनारा कर लिया है।

वेस्ट सेंट्रल रेलवे की यूनियन तो अब बीएमएस के भारतीय रेल मजदूर संघ में शामिल हो चुकी है, जबकि पूर्वोत्तर रेलवे कार्मिक यूनियन ने आईआरईएफ़ से नाता तोड़ लिया है।

लिहाजा अब आईआरईएफ़ को उन ज़ोन में नई यूनियन बनाने या सक्रिय करने में खासी मेहनत करना होगी।

साथ ही उन यूनियनों के प्रचार और दुष्प्रचार का भी सामना करना होगा, जिनका साथ कभी रहा है।

ierf second conference allahabad @kamal usari
मामला पहले (बाएं से) आईआरईएफ़ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज पांडे और महामंत्री सर्वजीत सिंह। फ़ोटो साभारः @kamal usari
भाकपा माले से जुड़़े होने का नुकसान भी

रेलवे के प्रतिद्वंद्वी नेताओं में आम धारणा है कि भाकपा माले नक्सली संगठन है। हालांकि माले एक संसदीय पार्टी है और हर चुनावों में हिस्सा लेती है।

बिहार में माले के कई विधायक भी रहे हैं और इस लोकसभा चुनाव में भी उसने अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं।

फिर भी पीआरकेयू के अध्यक्ष रमाकांत सिंह का दावा है कि ये माओवादी दल है। इसी तरह की धारणा विरोधी यूनियनों के अन्य नेताओं की भी है, जो हिंसा की बात कहकर एक्टू को नकारने का प्रचार करना शुरू कर चुके हैं।

‘वर्कर्स यूनिटी’ से बातचीत में एक्टू के रेलवे फ्रंट की जिम्मेदारी संभाल रहे डॉ. कमल ऊसरी ने कहा कि ‘रमैया कट्टा को किसी भी बड़ी जिम्मेदारी के लिए नहीं चुना गया।’

ईस्ट कोस्ट रेलवे, पूर्व दक्षिण रेलवे, दक्षिण रेलवे से सुभाशिष बागची, एस मुनिराजू, के नागेश्वर राव चुने गए हैं। सम्मेलन में आईआरईएफ का महामंत्री एक्टू से संबद्ध नार्थ सेंट्रल रेलवे वर्कर्स यूनियन के महामंत्री मनोज पांडे को चुना गया।’

indian railway employees fedration conference @Ahish Saxena
फ़ोटो साभारः @Ahish Saxena
रमैया कट्टा के समर्थकों में नाराजगी

आईआरईएफ़ के जनरल सेक्रेटरी रहे रमैया कट्टा को एक्टू से हाथ मिलाने के बाद बाहर कर दिया गया। इसकी भनक उन्हें सम्मेलन में हुए चुनाव से पहले तक नहीं लगी। जबकि दोनों दिन की कार्यवाही में वे मौजूद रहे।

ऐसे में रमैया समर्थक इस बात से ख़फ़ा होकर वापस हुए कि एक साजिश रची गई सर्वजीत गुट और एक्टू की ओर से।

इसका असर आईआरईएफ़ के दक्षिण भारत में काम पर बड़ा असर होने की संभावना है। हालांकि एक्टू से जुड़े कुछ अन्य संगठन दक्षिण भारतीय राज्यों में सक्रिय हैं।

सूत्रों का कहना है कि रमैया कट्टा आईआरईएफ़ के मौजूदा स्वरूप को लेकर कोर्ट की शरण में भी जा सकते हैं।

हालांकि इसका कोई असर शायद न पड़े, क्योंकि वे सम्मेलन के भागीदार रहे और लोकतांत्रिक प्रक्रिया से नई टीम का चुनाव हुआ।

ierf leader ramaiya katta @ramaiya katta/Facebook
आईआरईएफ़ के जनरल सेक्रेटरी रहे रमैया कट्टा को इस बार नहीं चुना गया। फ़ोटो साभारः @ramaiya katta/Facebook
टीयूसीसी बना सकती है नया फेडरेशन

आईआरईएफ़ के अलग हो जाने के बाद कई ज़ोन की यूनियनों को लेकर टीयूसीसी नया फ़ेडरेशन बना सकती है, इसके संकेत मिल रहे हैं।

वहीं एक सूरत ये भी हो सकती है कि कुछ यूनियनें सीधे संबद्ध रहें।

इसकी वजह ये हो सकती है कि टीयूसीसी बीएमएस के बनाए कन्फ़ेडरेशन ऑफ सेंट्रल ट्रेड यूनियंस (कन्सेंट) का हिस्सा ही नहीं है, दूसरे नंबर की हैसियत रखती है।

कन्सेंट का ढांचा निचले स्तर पर साझा बनाने का भी इरादा है।

ऐसे में उन यूनियनों को एक ही ज़ोन मेें तालमेल बनाने की मजबूरी हो जाएगी, जो पहले से अलग हैं।

हालांकि व्यवहारिक तौर पर इसका नतीजा क्या निकलेगा, कहना मुश्किल है।

इस प्रैक्टिस के होने पर आईआरईएफ़ का एआईआरएफ़, एनएफ़आईआर और कन्सेंट के तीन मोर्चों से घिरना लगभग तय है।

indian railway employees federation @iref
फ़ोटो साभारः @iref
वैकल्पिक मोर्चा बनने की उम्मीद

आईआरईएफ़ के मौजूदा नेतृत्व में वामपंथी भाकपा माले लिबरेशन का वैचारिक दबदबा कायम हो चुका है, जो देर-सबेर संगठन और गतिविधियों में झलकेगा।

इससे पहले फ़ेडरेशन वैचारिक तौर पर खाली था।

नए नेतृत्व ने तय किया है कि रेलवे के ट्रेड यूनियन आंदोलन में अवसरवादी, नौकरशाही की संस्कृति समाप्त करते हुए लोकतांत्रिक और भरोसेमंद विकल्प बनाएगा।

ये विकल्प भारतीय रेल को बचाने के लिए श्रमिकों को लामबंद करेगा, साथ ही पुरानी पेंशन स्कीम, श्रमिक अधिकार और जनवाद के मुद्दों पर संघर्ष करेगा।

इलाहाबाद में 30-31 मार्च को हुए सम्मेलन में  वैकल्पिक दृष्टि और वैकल्पिक रेल श्रमिक आंदोलन, राष्ट्रीय राजनीतिक स्थिति पर विचार किया गया।

इसके साथ ही  रेल कर्मचारियों के आंदोलन की भूमिका, अंतरराष्ट्रीय रेल मजदूर संघर्ष, फासीवाद, रेलवे में ठेका मजदूरी, रेल मजदूरों के संघर्ष की रूपरेखा के लिए तीन वर्षीय योजना पर विचार विमर्श किया गया।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।

One thought on “रेलवे की यूनियन आईआरईएफ़ ने टीयूसीसी से नाता तोड़, एक्टू का हाथ थामा

  • April 6, 2019 at 7:47 pm
    Permalink

    दिनांक 31 मार्च 2019 इलाहाबाद कोरल क्लब में आयोजित IREF के द्वी वार्षिक सम्मेलन में का0 रुकमा नन्द पाण्डेय (भू0पू0सैनिक)एवंशाखामंत्री इंजीनियर NCRWU इलाहाबाद के द्वारा उठाए गए मुद्दों को
    1-भू0पू0 सैनिकों का वेतन निर्धारण जो2011 से लंबित है (2)LDCE open to all जो ट्रेक्मेन्टेनर का लम्बित है उसे प्रमुखता से उठाया जाये जो अपेक्षित है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *