‘जज बोला- पैसे लेने है तो ले, वरना भाग जा, तेरे जैसे प्रधान बहुत देखे हैं’/ Hero Moto Corp

जरा सोचिए अगर आप अपनी मस्ती में चले जा रहें हो और अचानक आपके पैरो तले जमीन खिसक जाए ये दौर वाकई खतरनाक है।

कुछ ऐसा ही हुआ हीरो मोटो कॉर्प में काम करने वाले मजदूर मनोज कुमार और उनके साथी मजदूरों के साथ 15 साल तक कंपनी में नौकरी करने के बाद 2014 में उन्हें और उनके हजारों साथियों को अचानक नौकरी से निकाल दिया गया और इसकी वजह बताना भी जरूरी नहीं समझा।

ये भी पढ़ेंः इएसआई घोटालाः पहली बार किसी उद्योगपति पर एफ़आईआर दर्ज, कपिल गुप्ता की मुसीबतें बढ़ीं

तब से वो फुटपाथ पर जूते बेचने का काम करते है

मनोज कुमार (मजदूर लीडर) बताते है की उन्होंने अपने 15 साल हीरो मोटो कॉर्प को दिए वो कंपनी जो आज के समय में अपने नम्बर एक के दौर में चल रही है लेकिन उसी कंपनी के मजदूरों की इस हालत के बारे मे कोई नहीं जानता की वो किस तरह से धक्के खा रहे है उनका ये केस 2014 से अब तक चल रहा है।

नौकरी जाने के बाद मनोज ने उधार लेकर काम शुरू किया

मनोज रोज सुबह ऑटो लेकर निकल जाते है और फुटपाथ पर अपनी दुकान सजाते है मनोज के साथ निकाले गए बाकी हजारों मजदूर भी इसी तरह की जिन्दगी जिने के लिए मजबूर है। वो बताते है की नौकरी से निकाले जाने के बाद उन्होंने कई जगह दूसरी नौकरी के लिए धक्के खाए लेकिन उमर (45) के इस मोड़ पर उन्हें कही नौकरी नहीं मिली, जिसके बाद मनोज ने अपने दोस्त से पैसे उधार ले कर फुटपाथ पर दुकान खोली पर इसमें मनोज को कभी 200 तो कभी 300 तक की ही मज़दूरी मिल पाती है तो कभी घर पर खाली बैठना पड़ता है।

workers unity

ये भी पढ़ेंः ‘पेंशन हमारे बुढ़ापे की दवाई, बच्चों की पढ़ाई और हमारी बहनों के लिए रक्षाबंधन की बधाई है मोदी जी!’

कंपनी ने जबरदस्ती धक्के मार के निकाला

मनोज ने बताया की जब कंपनी से मजदूरों को निकाला जा रहा था उस समय उनके पीछे 5000 पुलिसकर्मी मौजूद थे बावजूद इसके मजदूरों को कंपनी से धक्के मार के निकाल दिया गया। आज इस केस को चलते हुए 4 साल हो चुके है लेकिन अब तक मज़दूरों को उनका हक नहीं मिल सका आज नौकरी से निकाले गए मज़दूरो की हालत बद से बदतर होती जा रही है कई मजदूर कैंसर जैसी भयानक बीमारी से जूझ रहे है तो कई मजदूर की हार्ड अटैक की वजह से मौत की नींद सो गए, कई मज़दूरों ने तो हताश होकर आत्महत्या भी कर ली।

जज ने भी डराया कहा- पैसे लेने है तो ले, वरना भाग जा

मनोज ने आगे बताया की लेबर कोर्ट में भी कर्रवाई के नाम पर केवल दिखावा होता है फैसले के नाम पर बार-बार उन्हें तारीख थमा दी जाती है। लेबर कोर्ट में “जज ने मनोज से कहा की पैसे लेने है तो ले वरना भाग जा यहां से, तेरे जैसे प्रधान बहुत देखे हैं।एक प्रधान होने के नाते मनोज के द्वारा कोर्ट में सिर्फ यह अपील की गई कि सभी मजदूरों को नौकरी मिले इसके अलावा उन्हें कुछ नहीं चाहिए। तो लेबर कोर्ट के जज ने मनोज से कहा नौकरी की बात दिमाग से निकाल दो और 25-30 हजार सालाना पैसे लेकर सेटलमेंट कर इस बात को खत्म कर दो… (यानी जितने साल काम किया उसका मुआवजा 15 साल मतलब 4.5 लाख रूपये) पर मनोज ने इस शर्त को मानने से इंकार कर दिया उनकी बस एक मांग है नौकरी।

ये भी पढ़ेंः अब हथियार बनाने वाले 4 लाख कर्मचारी भी 3 दिनों की हड़ताल पर, डिफ़ेंस में निजीकरण का हो रहा विरोध

ठेके पर काम करने की वजह से नहीं है सबूत

कंपनी में मजदूर अलग-अलग तरह का काम करते थे और कंपनी इन मजदूरों को ठेके पर दिखाती है जिस कारण इन मजदूरों के पास कोई ठोस सबूत नहीं है इस वजह से इनके केस को खारिज करने की धमकी भी दी जाती है। अब ये मजदूर अपने परिवार का पेट पालने के लिए उसी कंपनी के चौराहे पर बैठने पर मजबूर है जहां वे काम किया करते थे।

कंपनी ने कहा ये नहीं है हमारे मजदूर

मनोज आगे बताते है कि कंपनी कोर्ट को पैसे देकर फैसले को आगे बढ़वा देती है और उन पर तरह-तरह से इलजाम लगाती है। कभी कहती है ये हमारे वर्कर नहीं है कभी कहती है हम इन्हें जानते भी नहीं है। वो बताते है कि उनके केस बहस में होने के बावजूद भी जज के द्वारा उन पर जबरदस्ती सेटलमेंट करने का दबाव डाला गया और जज ने केस की पहली तारीख में ही केस को सेटलमेंट में डाल दिया। वे चाहते है की मजदूर के खिलाफ सुनाए गए सभी फैसलों की दोबारा जांच होनी चाहिए हो सकता है उनके केस की तरह बाकी के केसों को भी इसी तरह से खत्म करवाया गया हो!

कंपनी ने किया नियमो का उल्लघंन

मनोज ने कहा उनके केस कानूनी एक्ट 36 के अंतर्गत आता है और वो खुद ही इस केस को लड़ रहे है और उनके केस में सामने वाला पक्ष वकील नहीं कर सकता बावजूद इसके कंपनी उनके खिलाफ 2 वकील पेश करती है लेकिन इस के बाद भी इन मजदूरों ने हार नहीं मानी और अपने हक के लिए उनका संघर्ष जारी है।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

 

 

 

3 thoughts on “‘जज बोला- पैसे लेने है तो ले, वरना भाग जा, तेरे जैसे प्रधान बहुत देखे हैं’/ Hero Moto Corp

  • March 5, 2019 at 11:48 am
    Permalink

    पिछले 4.5 साल से कानपुर मे लड रहा हू एलेम्बिक फार्मा लि. मे कानपुर मे दवा प्रतिनिधि हू कमपनी ने दिसम्बर ,2014 मे चेन्नई टॉसफर किया था 7 केस कमपनी पर लेबर कोर्ट मे व एक सिविल कोर्ट मे चल रहा है। कँमपनी किसी श्रम कानून का पालन नहीं करती।सरकार भी असहाय। पैसे के बल पर हर जगह खरीद फरोख्त।

    Reply
  • March 13, 2019 at 6:35 am
    Permalink

    आपकी न्यूज़ रिपोर्टिंग बहुत बढ़िया है. कृपया बताएं मैं आपके लिए क्या कर सकता हूँ?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *