होंडा मज़दूरों के संघर्ष के समर्थन में कई यूनियनों ने मिलकर किया प्रर्दशन

हरियाणा के फरीदाबाद में 17 नवम्बर को इंकलाबी मज़दूर केंद्र, ऑल वीनस वर्कर्स यूनियन और औद्योगिक ठेका मज़दूर यूनियन समेत मौर्या उद्योग वर्कर्स यूनियन ने मिलकर फरीदाबाद के वी. के. चौक पर गुड़गांव मानेसर स्थित होंडा कंपनी के मज़दूरों की गैर कानूनी छटनी के खिलाफ चल रहे संघर्ष के समर्थन में जोरदार प्रर्दशन किया।

होंडा कंपनी में 4 नवम्बर से लगभग 2500 कैजुअल मज़दूर छटनी और ठेकेदारी प्रथा के खिलाफ स्थाई रोजगार के लिए कंपनी प्रबंधन से संघर्ष कर रहे हैं।

कंपनी प्रबंधन आर्थिक मंदी का हवाला देकर छटनी पर आमादा है, लिहाजा प्रर्दशनकारियों ने कंपनी प्रबंधकों द्रारा कि जा रही मज़दूर विरोधी कार्यवाईयों की कठोर शब्दों में निंदा की और ये मांग की कि इस मामले में हरियाणा सरकार हस्तक्षेप कर छटनी पर रोक लगाए।

ये भी पढ़ें- होंडा आंदोलनः मैनेजमेंट पहुंचा कोर्ट, प्लांट खाली करने का दबाव

ये भी पढ़ें- घुसखोरी और हेराफेरी के खिलाफ श्रम कार्यालय के बाहर मज़दूरों का विरोध प्रर्दशन

और ठेकेदारी प्रथा को खत्म कर सभी कैजुअल और कॉन्ट्रैक्ट वर्ककों को परामनेंट नौकरी पर रखें।

इस प्रदर्शन में मुख्य रूप से मज़दूर केंद्र से संजय मौर्या और कार्यकर्ता शामिल रहे, इसके अलावा ऑल वीनस वर्कर्स यूनियन के प्रधान श्याम बाबू और वीरेंद्र चौधरी और यूनियन के अन्य पदाधिकारी भी शामिल रहे।

औद्योगिक ठेका मजदूर यूनियन से अध्यक्ष मनोज और महासचिव नितेश व यूनियन के पदाधिकारी और सदस्य भी शामिल थें।

इसके अलावा परिवर्तनकामी छात्र संगठन से विवेक गौतम और अन्य छात्रों ने भी अपनी भागीदारी दी साथ ही समाजसेवी सत्यवीर भी इस प्रर्दशन में शामिल थे।

इतना ही नहीं प्रर्दशन में अलग-अलग कंपनियों के महिला और पुरुष मज़दूरों ने भी भागीदारी दी।

और सभी ने एकजुट होकर होंडा में 4 नवम्बर से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठे मज़दूरों के लिए अपनी आवाज उठाई।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *