200 पत्रकारों को निकालने पर भड़की बरखा दत्त ने खोली चैनल मालिकों की पोल

जानी मानी वरिष्ठ पत्रकार बरखादत्त ने सोमवार को कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की पत्नी प्रोमिला सिब्बल पर तिरंगा चैनल के करीब 200 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने और महिला कर्मचारियों के साथ गलत व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) में शिकायत दर्ज कराई है।

दरअसल जनवरी 2019 में यह चैनल हार्वेस्ट टीवी के नाम से शुरू हुआ था, लेकिन कुछ कॉपीराइट विवाद के बाद इसका नाम बदलकर तिरंगा टीवी कर दिया गया।

बरखा दत्त ने सोमवार को ट्विटर पर सिब्बल और उनकी पत्नी पर श्रम अधिकारों के उल्लंघन और कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार के गंभीर आरोप लगाए हैं।

बाकी पत्रकारों की तरह बरखा ने भी चैनल की लॉन्चिंग से पहले उसका दामन थामा था, लेकिन इस पूरे विवाद के बाद बरखा दत्त का कहना है कि अब उनका मकसद 200 कर्मचारियों को इंसाफ दिलाना है

ये भी पढे़ं :- समाचार एजेंसी PTI में छंटनी, 300 गैर-पत्रकारों को निकाल बाहर किया, यूनियन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

बिना वेतन दिए 200 कर्मचारियों को निकाला

उन्होंने कहा कि चैनल में ‘डरावना’ माहौल है। यहां 200 से ज्यादा कर्मचारियों को बिना छह महीने की सैलरी दिए निकाला दिया गया है।

बरखा के अनुसार सिब्बल ने वादा किया था कि चैनल को कम से कम 2 साल तक चलाया जाएगा।

इस वजह से अधिकतर लोग यहां अपनी स्थायी नौकरियां छोड़कर आए थे, लेकिन जब कर्मचारियों को निकाला गया तो न कपिल सिब्बल ने स्टाफ से बात की और न ही उनकी पत्नी ने।

बल्कि सभी लाइव प्रोग्रामिंग को 48 घंटो के लिए रद्द कर दिया गया।

ये भी पढे़ं :- तमाम ऑटो मोबाइल कंपनियों में भारी पैमाने पर हुआ शटडाउन

प्रोमिला सिब्बल ने कहा ‘ये पत्रकारों की क्या औकात है’

दत्त ने आगे आरोप लगाया कि पत्रकारों द्वारा 6 महिने की सैलरी मांगे जाने कपिल सिब्बल की पत्नी प्रमिला ने कहा कि “मैंने  मीट फैक्ट्री बंद करते हुए किसी भी मजदूरों को एक पैसा तक नहीं दिया था तो फिर ये 6 महीने की सैलरी मांगने वाले ये पत्रकारों की क्या औकात है”।

वहीं चैनल के कुछ कर्मचारियों ने इस हाल को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था। कर्मचारियों का कहना था कि उन्हें एक महीने की सैलरी लेकर इस्तीफ़ा देने के लिए कहा गया है।

कुछ कर्मचारियों ने बकाया वेतन को लेकर प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के सामने प्रदर्शन भी किया था।

ये भी पढे़ं :- ठीक होली के दिन घड़ी बनाने वाली कंपनी एचएमटी में तालाबंदी

बरखा दत्त को दी धमकियां

आपको बता दें कि बरखा ने ये सारी जानकारी आपने ट्वीटर हैडल पर शेयर कि थी जिसके बाद उन्होंने बताया कि  ‘कर्मचारियों के अधिकारों के लिए लड़ने की वजह से मुझे धमकाया जा रहा है।

मुझसे यह भी कहा जा रहा है कि मैं कपिल सिब्बल की माल्या से तुलना न करूं, लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगी।

मैं ‘तिरंगा’ चैनल के स्टाफ के साथ खड़ी हूं और अंत तक उनका साथ देती रहूंगी।’ सिब्बल दंपती पर आरोपों की बात यहीं खत्म नहीं होती।

बरखा दत्त का कहना है कि कपिल और उनकी पत्नी महिला कर्मचारियों को संबोधित करने के लिए अपशब्द का प्रयोग करते थे।

इस पूरे मामले के बाद यही सवाल उठता है कि क्या एडिटर्स गिल्ड और पत्रकार संघ जैसी संस्थाएं पत्रकारों के हक के लिए आगे आती हैं या नहीं?

ये भी पढे़ं :- नोएडा के Xiaomi और Oppo प्लांट में बिना नोटिस 200 मज़दूरों को निकाला, मज़दूरों का उग्र प्रदर्शन, असेंबली लाइन नष्ट

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *