डॉयचे बैंक ने भारत समेत अन्य देशों से 18 हजार कर्मचारियों की छंटनी का ऐलान किया

मंगलवार को जर्मनी के डॉयचे बैंक ने भारत समेत दुनिया के अलग-अलग देशों में कुल 18 हजार कर्मचारियों की छंटनी का ऐलान किया है।

करीब 18,000 नौकरियां प्रभावित

इस बहुराष्ट्रीय निवेश बैंक और वित्तीय सेवा कंपनी ने अपने वैश्विक इक्विटी कारोबार को बंद करने और सुनिश्चित आय परिचालन में कटौती की घोषणा की थी।

इससे वैश्विक स्तर पर 18,000 नौकरियां प्रभावित होंगी।

डॉयचे बैंक के इस फैसले का भारत पर भी काफी असर पड़ा है।

ये भी पढ़ें:- रेलवे का राष्ट्रीयकरण-निजीकरण एक ही नीति के दो चेहरे, ब्रिटेन का उदाहरण सामने है

भारत पर भी बुरा प्रभाव

एक रिपोर्ट के मुताबिक छंटनी के लिए लिस्‍टेड 18 हजार कर्मचारियों में बेंगलुरु स्थित बैंक के कर्मचारी भी शामिल हैं।

इस छंटनी पर जानकारी देते हुए बेंगलुरु के एक कर्मचारी ने कहा कि हमें बताया गया कि हमारी नौकरियां खत्म हो गई हैं और हमें रिलिविंग लैटर दे दिया गया है।

इसके साथ ही एक महीने का वेतन भी दिया गया है।

वहीं ये भी खबर है कि सिडनी, हांगकांग, लंदन और न्यूयॉर्क समेत पूरी दुनिया में भी कर्मचारियों को बीते आठ जुलाई को उनकी एक महीने की सैलरी के साथ रिलिविंग लैटर दे दिया गया है।

कंपनी की इस तरह की छंटनी को देखते हुए कर्मचारी ने कहा कि हमारा भविष्‍य अधर में है।

परिवार चलाने से लेकर लोन भरने तक की चिंता है।

ये भी पढ़ें:- सोनिया गांधी ने रेलवे के निजीकरण पर उठाए सवाल, कहा हज़ारों कर्मचारियों का भविष्य ख़तरे में

भारत के अलावा कई देशो से छंटनी की खबर

भारत के अलावा हांगकांग, न्‍यूयॉर्क और लंदन में डॉयचे बैंक के ब्रांच में भी छंटनी की खबर है।

हालांकि वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि ऐसे फैसलों का लोगों के जीवन पर गहरा असर पड़ता है।

इसीलिए इन बदलावों को लागू करते समय हम संवेदनशील और जिम्मेदाराना तरीके से काम करेंगें।

ये भी बताते चलें कि साल 2022 तक कंपनी के कुल 74,000 कर्मचारियों में से 18,000 कर्मचारियों को बाहर किया जाएगा।

ये कदम कंपनी की लागत को कम करते हुए 19 मिलियन डॉलर तक लाने की दिशा में एक कोशिश है।

ये भी पढ़ें:- भारतीय रेलवेः 7 कारखाने निगम बनेंगे, हज़ारों नौकरियां दांव पर

व्यवसाय का एक बड़ा हिस्सा बंद हुआ

डॉयचे बैंक को पुनर्गठन से संबंधित लागतों के कारण अपनी दूसरी तिमाही में 2.8 मिलियन डॉलर का नुकसान होने की उम्मीद है।

बैंक ने अपने व्यवसाय का एक बड़ा हिस्सा बंद कर दिया, जिसकी वजह से विशेष रूप से सिडनी और हांगकांग में काम कर रहे कर्मचारियों पर असर पड़ेगा।

डॉयचे बैंक यूरोप, अमेरिका और एशिया के तकरीबन 58 देशों में काम करता है।

अप्रैल 2018 के आंकड़ों के अनुसार अपनी कुल संपत्ति के साथ यह दुनिया का 15वां सबसे बड़ा बैंक था।

ये भी पढ़ें:-डिलीवरी बॉयः ‘हम दूसरों को ख़ाना पहुंचाते हैं, पर हमें कोई पानी भी नहीं पूछता’

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

One thought on “डॉयचे बैंक ने भारत समेत अन्य देशों से 18 हजार कर्मचारियों की छंटनी का ऐलान किया

  • July 11, 2019 at 7:25 pm
    Permalink

    Nice activity , go in positive way for labour

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *