डीटीसी कर्मचारियों ने अपनी मांगो को लेकर डीटीसी मुख्यालय पर किया विरोध प्रदर्शन

डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर ने दिल्ली परिवहन निगम प्रबंधन को पत्र सौंपते हुए डीटीसी के मुख्यालय पर प्रदर्शन किया।

डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर ने एक बार फिर से ठेका कर्मचारियों की मांगो को लेकर दिल्ली परिवहन प्रंबधन को पत्र लिखा कि वह

प्रंबधन के मजदूर विरोधी रवैये को देखते हुए दिनांक मंगलवार को सुबह 11 बजे डीटीसी मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन  करेंगे।

कर्मचारियों की मांग है कि अवैध कटौती, काम न देने, निकाले गए ठेका कर्मचारियों को वापस लिया जाए।

पहले भी कई बार वेतन में कटौती व समान काम के समान वेतन की मांग को लेकर यूनियन ने प्रदर्शन किया है।

hindi nes today news

प्रंबधन द्वारा कर्मचारियों का आयदिन शोषण

कर्मचारियों का कहना है कि प्रबंधन लगातार श्रम कानूनों को ताक पर रखकर कर्मचारियों के वेतन से दो से पांच हज़ार रुपए तक की अवैध कटौती कर रहा है।

साथ ही डीटीसी के डिपो पर सही समय से ड्यूटी करने पहुंच रहे ठेका कर्मचारियों को वापस घर लौटा दिया जाता है।

कर्मचारियों के मांगपत्र में कहा गया है कि डीटीसी प्रंबधन लगातार न सिर्फ कर्मचारियों की मांगों को अनदेखा कर रहा हैं।

बल्कि आये दिन कर्मचारियों को परेशान करने और उनका शोषण को बढ़ावा देने के लिए नए नियम बना रहा हैं।

कर्मचारियों की मांगों को नजरअंदाज

कर्मचारियों का कहना है कि ठेका कर्माचियों की मेहनत के कारण ही दिल्ली की जनता सड़क पर चल रही है।

डीटीसी वर्कर्स यूनिटी सेंटर ने प्रबंधन को आगह किया है कि ऐसी मनमानी से नुकसान प्रंबधन की ही होगा और जिम्मेदारी भी प्रंबधन की ही होगी।

यूनियन का आरोप है कि पहले भी कई बार डीटीसी प्रंबधन को कर्मचारियों की मांगों से यूनियन अवगत करा चुकी है।

लेकिन प्रंबधन की तरफ से कर्मचारियों के हित में कोई भी फैसला नहीं लिया गया और न ही  यूनियन को बातचीत के लिए बुलाया गया।

hindi news today news
मांग पत्र
कर्मचारियों की मुख्य मांगें-

1. डिपो पर आने के बाद सभी ठेका कर्मचारियों को अविलंब ड्यूटी दी जाए।

2. जिन कर्मचारियों के वेतन से अवैध रूप से 2000 से लेकर 5000 रूपए राशि की कटौती की गई है, उन्हें पूरा पैसा उचित सूद के साथ वापस किया जाए।

3. निकाले गए ठेका कर्मचारी जो डीटीसी में काम करने की इच्छा व्यक्त की है, उन्हें अविलंब काम पर वापस लिया जाए।

4. यूनियन द्वारा पूर्व में उठाए गए मांगों पर कार्रवाई हो व यूनियन के साथ वार्ता तुरंत शुरू की जाए।

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *