नेस्ले इंडिया के मजदूरों ने वेतन कटौती के विरोध में किया लंच बहिष्कार

बीते सोमवार को पंतनगर (उत्तराखंड) में स्थित नेस्ले इंडिया कंपनी के मजदूरों ने 4 श्रमिकों की अवैध वेतन कटौती के विरोध में लंच बहिष्कार किया।

इसका आह्वान कंपनी की दोनों यूनियनों नेस्ले मज़दूर संघ व नेस्ले कर्मचारी संगठन ने संयुक्त रूप से किया।

दरअसल, नेस्ले में मज़दूर हित के तमाम सवालों पर संघर्ष करने और दोनों यूनियनों के संयुक्त रूप से एक साथ आने से प्रबन्धन की बौखलाहट बढ़ गई।

ये भी पढ़ें :- मज़दूर दिवस पर काम से निकाले गये डीयू सफाई कर्मचारी भूख हड़ताल पर

टूल डॉउन का नोटिस दिया

प्रबन्धन द्वारा प्रतिशोधवश पंतनगर कर्मचारी संगठन के महामंत्री चंद्रमोहन लखेड़ा, सुरेन्द्र कुमार, जगमोहन लाल व मनोज तनवर के वेतन में समझौते के तहत इस वर्ष बढ़ी राशि को 6 माह तक कटने का फरमान जारी कर दिया था।

जिसके खिलाफ यूनियनों ने विरोध के साथ टूल डॉउन का नोटिस दिया था।

इस बीच 25 अप्रैल को सहायक श्रमायुक्त की मध्यस्तता में एक दौर की वार्ता हुई थी।

ये भी पढ़ें :- पेपर मिल इंजीनियर ने सुसाइड नोट में अपनी मौत के लिए मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

वेतन कटौती को रद्द करने की माँग

एएलसी ने 10 मई की पुनः वार्ता बुलाई और वेतन न काटने व टूल डॉउन न करने का दोनों पक्षो को निर्देश दिया था।

लेकिन प्रबन्धन ने मनमानी करते हुए चारो श्रमिको का वेतन काट दिया, जिसके विरोध में भोजन बहिष्कार का कार्यक्रम पूर्णतः सफल रहा।

दोनों यूनियनें वेतन कटौती का फरमान रद्द करने की माँग के साथ आंदोलन तेज करने की तैयारी में जुटी हैं।

ये भी पढ़ें :- एक दोस्त की नज़र में मज़दूरों के महान नेता कार्ल मार्क्स

(वर्कर्स यूनिटी स्वतंत्र निष्पक्ष मीडिया के उसूलों को मानता है। आप इसके फ़ेसबुकट्विटर और यूट्यूब को फॉलो कर इसे और मजबूत बना सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *